'सौरव गांगुली ने बनाया टीम इंडिया को जुझारू'

  • 7 अगस्त 2013
गांगुली
गांगुली का नाम भारत के सफलतम कप्तानों में शुमार हैं.

कुछ दिन पहले सौरव गांगुली की आलोचना करने वाले ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान स्टीव वॉ ने अब कहा है कि गांगुली ही वो कप्तान हैं जिन्हें भारतीय क्रिकेट टीम में मज़बूती और जुझारू भावना लाने का श्रेय दिया जाना चाहिए.

चंद दिन पहले वॉ ने कहा था कि गांगुली ने कई दफ़ा टॉस के वक़्त पहुँचने में देरी कर के क्रिकेट को मिलने वाले सम्मान को कम किया था.

स्टीव वॉ मंगलवार को कोलकाता में पत्रकारों से बात कर रहे थे और इसके पहले वे बैरकपुर के पास स्थित उन बस्तियों का दौरा कर के लौटे जहाँ वे कुष्ट रोगी बच्चों की मदद वाले अभियान से जुडे रहे हैं.

उन्होंने कहा, "सौरव गांगुली बेहतरीन क्रिकेटर रहे हैं. साथ ही कप्तान भी. भारतीय क्रिकेट टीम में जुझारू भावना और मज़बूती लाने का श्रेय उन्ही का है."

स्टीव वॉ से ये भी पूछा गया कि सौरव गांगुली और मौजूदा भारतीय कप्तान सिंह धोनी में वे तुलना कैसे करेंगे.

उन्होंने कहा, "दोनों अलग तरह के कप्तान हैं. दोनों ही बहुत अच्छे रहे हैं."

आलोचना

स्टीव वॉ के नेतृत्व में ऑस्ट्रेलिया विश्व की नंबर एक टीम रही.

कुछ ही दिन पहले स्टीव वॉ ने सौरव गांगुली की आलोचना की थी कि 2001 में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेली गई टेस्ट श्रंखला में वे मैच के पहले होने वाले टॉस में 'देरी से आते थे'.

उन्होंने कहा था कि ऐसा करते हुए गांगुली ने एक तरह से क्रिकेट के खेल के प्रति 'कम सम्मान दिखाया था'.

उन्होंने कहा था, "ये उनका निजी फैसला था कि वे हर मैच के टॉस में देरी से पहुँचते थे. हालांकि इससे मुझे कोई फ़र्क नहीं पड़ा था लेकिन मुझे लगा था कि ये सही नहीं था. मैच रेफ़री ने उन्हें टॉस के लिए समय से पहुँचने के लिए भी कहा था".

हालांकि स्टीव वॉ के बयान के बाद गांगुली ने साफ़ किया था कि वे सिर्फ़ एक ही मैच के टॉस में विलंब से पहुंचे थे.

लेकिन अब कोलकाता में गांगुली की तारीफ़ करने वाले स्टीव वॉ ने इंग्लैंड में खेली जा रही ऐशेज़ श्रंखला पर भी खुल कर बात की है.

उनको लगता है कि श्रंखला गंवाने के साथ साथ दो मैचों में हारने के बाद ऑस्ट्रेलिया की टीम के लिए वापसी करना बेहद कठिन रहेगा.

भारत भ्रमण पर निकले स्टीव वॉ इससे पहले मुंबई और दिल्ली का दौरा कर चुके हैं और इन दिनों उनका पड़ाव कोलकाता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार