इन यादगार पलों ने डेविड बेकम को दी पहचान

  • 17 मई 2013

मशहूर फ़ुटबॉल खिलाड़ी डेविड बेकम ने संन्यास लेने की घोषणा कर दी. बेकम के सुनहरे करियर पर एक नजर

विम्बलडन के खिलाफ मशहूर गोल, 17 अगस्त 1996

डेविड बेकम ने मैनचेस्टर यूनाइटेड की तरफ से खेलते हुए विम्बलडन के खिलाफ मध्य रेखा से गोल दागकर फ़ुटबॉल की दुनिया में अपने आगाज की घोषणा कर दी थी.

इंग्लैंड बनाम अर्जेंटीना — विश्वकप 1998, 30 जून 1998

इस मैच में इंग्लैंड अर्जेंटीना से पेनल्टी शूटआउट में हार गया था. यह मैच दो कारणों से आज भी याद किया जाता है. इसी मैच में इंग्लैंड के माइकल ओवेन ने विश्व के सर्वश्रेष्ठ गोलों में से एक माने जाने वाले गोल से इंग्लैंड को 2—2 की बराबरी पर ला दिया था.

उतार—चढ़ाव भरे इस मैच में डेविड बेकम को डिएगो सिमेओने को धक्का मारने के कारण लाल कार्ड दिखाया गया था. इसके बाद इंग्लैंड टीम को मात्र दस खिलाड़ियों के साथ बाकी मैच खेलना पड़ा था.

मैनचेस्टर यूनाइटेड की तिहरी जीत, 26 मई 1999

प्रीमियर लीग और एफए कप का खिताब जीतने के बाद बायर्न म्यूनिख के खिलाफ 2-1 की शानदार विजय हासिल कर मैनचेस्टर यूनाइटेड ने अपनी जीत की तिकड़ी पूरी की थी.

यह मैच इंजरी—टाइम में टेडी शेरींघम और ओले गनर द्वारा किए गए दो गोलों के लिए भी काफी चर्चित हुआ था. इन दोनों खिलाड़ियों को गोल दागने के लिए बेकम ने ही गेंद बढ़ाई थी.

इंग्लैंड की कप्तानी, 15 नवम्बर 2000

सन् 2000 में इंग्लैंड फ़ुटबॉल टीम के कार्यवाहक मैनेजर पीटर टेलर ने डेविड बेकम को टीम का कप्तान नियुक्त किया.

पिछले मैनेजर केविन कीगन ने सोल कैम्पबेल की अनुपस्थिति में बेकम को टीम का उप कप्तान नियुक्त किया था.

ग्रीस के खिलाफ जादुई गोल, 6 अक्तूबर 2001

सन् 2001 में बेकम ने विश्वकप—2002 के क्वालिफाइंग मुकाबलों में ग्रीस के खिलाफ जादुई फ्री—किक लगाकर विश्वकप के लिए इंग्लैंड का टिकट पक्का कराया था. हालांकि 2002 विश्वकप में इंग्लैंड क्वार्टर—फाइनल में ब्राज़ील से पराजित हो गया था.

इंग्लैंड टीम के पूर्व मैनेजर स्वेन—योरान एरिक्सन ने 16 मई को बीबीसी स्पोर्टस को बताया, '' ग्रीस के खिलाफ किया गया गोल मिडफील्डर के तौर पर बेकम के करियर के सबसे खास क्षणों में से एक था. उस दौरान बेकम ने कई फ्री किक मिस कर दी थी लेकिन वह मानसिक रूप से इतना मजबूत था कि बिल्कुल अंतिम क्षणों में भी वह इस चुनौती को स्वीकार कर सका और उसने गोल कर दिखाया.''

विश्वकप में अर्जेंटीना के खिलाफ पेनल्टी — 7 जून 2002

2002 के विश्वकप में पेनल्टी शूटआउट में गोल दाग कर बेकम ने विश्वकप के प्राथमिक चरण में ही अर्जेंटीना को बाहर कर दिया. यह मैच इंग्लैंड 1—0 से जीता था. बेकम के इस गोल ने 1998 के विश्वकप में अर्जेंटीना से हारकर बाहर होने के इंग्लैंड के ग़म के लिए मरहम का काम किया था.

'फ़ुटबॉल बूट क्लैश' के बाद सुलह — 18 फरवरी 2003

मैनचेस्टर यूनाइटेड के बॉस सर एलेक्स फर्गुसन के साथ चेंजिग—रूम में हुई बहस के बाद से बेकम के रिश्ते उनके संग तनावपूर्ण हो गए थे. 2003 की शुरुआत में बेकम ने उनसे सुलह करके खेल भावना की एक अच्छी मिसाल पेश की थी.

रियाल मैड्रिड के साथ नई शुरुआत — 18 जून 2003

2003 में डेविड बेकम स्पेन के मशहूर क्लब रियाल मैड्रिड के लिए खेलने को तैयार हो गए. इसके लिए उन्हें दो करोड़ पैंतालिस लाख पाउंड मिले थे.

इंग्लैंड की कप्तानी से इस्तीफा — 2 जुलाई 2006

छह सालों तक इंग्लैंड की कप्तानी करने के बाद जर्मनी में हुए विश्वकप में पुर्तगाल से हारकर विश्वकप से बाहर होने के बाद बेकम ने इंग्लैंड कप्तान छोड़ दी थी.

एलए गैलेक्सी का करार, 12 जनवरी 2007

डेविड बेकम रियाल मैड्रिड को छोड़कर एलए गैलेक्सी से जुड़ गए. 31 वर्षीय बेकम ने करीब बारह करोड़ अस्सी लाख पाउंड में पांच सालों के लिए यह करार किया था.

लंदन ओलंपिक 2012 — 27 जुलाई 2012

2012 के लंदन ओलंपिक के लोकार्पण समारोह में बेकम ने ओलंपिक मशाल के साथ स्टेडियम में दर्शनीय ढंग से प्रवेश किया था. बेकम स्टेडियम में एक स्पीड बोट में आए थे.

पेरिस सेंट—जेर्मेन से जुड़ना, 31 जनवरी 2013

एलए गैलेक्सी से करार समाप्त होने के बाद डेविड बेकम ने पांच महीने के लिए इस प्रसिद्ध क्लब से जुड़ने की घोषण की. बेकम ने बताया था कि वह इस क्लब के लिए मुफ्त में खेल रहे हैं.

संबंधित समाचार