Eponyms क्या होते हैं भला?

 मंगलवार, 30 अक्तूबर, 2012 को 15:43 IST तक के समाचार
जोकर, ज़ैनी

ज़ैनी के लिए जोकर, क्लाउन, कॉमेडियन वग़ैरह शब्द का इस्तेमाल होता है.

आपने synonym और antonym तो ज़रूर सुना होगा जिसे हम पर्यायवाची और विपरार्थक कहते हैं. लेकिन क्या आपको मालूम है कि Eponyms क्या होते हैं?

चलिए बिना किसी देरी के बता दूं कि Eponym (इपोनिम) ऐसे शब्द को कहते हैं जो किसी व्यक्ति का नाम हो चाहे वह व्यक्ति वास्तव में रहा हो या कहानियों में उसका विवरण हो और उससे कोई शब्द निकला हो. यानी नाम देने की प्रक्रिया को Eponym कहते हैं. इसके लिए अंग्रेज़ी में name-giver भी आता है और self-titled भी.

आपने अक्सर देखा होगा कि किसी नियम को या किसी आविष्कार को उसके अविष्कार करने वाले के नाम पर रख देते हैं और यह फ़ॉर्मूला बहुत प्रचलित रहा है जैसे ammonia मिस्र के देवता Ammon पर रखा गया है और ampere फ़्रांस के भौतिक वैज्ञानिक André Marié Ampére (1775-1836) पर रखा गया है.

सूची बहुत लंबी है.

लेकिन कुछ ऐसे शब्द भी हैं जिनके पीछे बहुत लंबी कहानी है जैसे यूनान का सुप्रसिद्ध महाकाव्य Odyssey उसके प्रमुख पात्र Odysseus पर है. Odyssey को जब हम छोटे ओ से लिखते हैं तो इसका अर्थ होता है ऐसी यात्रा जो जोखिम से भरी हो और जिसमें अद्भुत घटनाएं घटी हों.

चलिए देखते हैं ऐसे इपोनिम्स (Eponyms)

आपने बहुत पहले मैवरिक शब्द के बारे में पढ़ा होगा कि जब किसी व्यक्ति के लिए Maverick शब्द इस्तेमाल किया जाता है तो उसका मतलब होता है एक ऐसा व्यक्ति जो प्रथा या प्रचलित नियम-क़ानून की परवाह किए बिना अपना रास्ता ख़ुद बनाए.

19वीं सदी के शुरू में वर्जीनिया राज्य से एक व्यक्ति टेक्सास आया और प्राकृतिक सौन्दर्य से भरा ये प्रदेश उसे इतना अच्छा लगा कि उसने यहाँ कुछ ज़मीन ख़रीद ली और यहीं बस गया. उस व्यक्ति का नाम था सैमुएल ऑगस्टस मैवेरिक (Samuel Augustus Maverick) जिसके नाम पर मैवेरिक बना. पूरी कहानी के लिए क्लिक करें यहां क्लिक करें

Sadism- यह शब्द फ़्रांसीसी उपन्यासकार A.F. de Sade (1740-1815) से आया है जो अपने उपन्यासों में क्रूर कामुक प्रक्रिया को पेश करने के लिए प्रसिद्ध थे. इसी से अन्य शब्द sadist भी बना है.

वैसे Sadism वह प्रक्रिया है जिसमें किसी को तकलीफ़ दे कर तकलीफ़ देने वाला आनंद ले. यानी जिसे परपीड़ा में आनंद आता हो. ऐसे व्यक्ति को परपीड़क कहते हैं. अंग्रेज़ी में cruel sexual practice से आनंद लेने वाले के लिए इसका प्रयोग किया जाता है.

हील

Masochism- का अर्थ होता है ख़ुद को दुख देकर, तकलीफ़ पहुंचा कर सुख महसूस करना. History of word origin में लिखा है कि इसे sexual pleasure in being hurt or abused के लिए जर्मनी के Richard von Krafft-Ebing (1840-1902) ने ऑस्ट्रिया के उपन्यासकार Leopold von Sacher-Masoch (1836-95) से निकाला है जोकि अपने उपन्यास Venus in Furs में पांव में गिरकर खुद को कामवासना के लिए पेश करने का बखान किया है. इस से शब्द masochist बनता है.

Nemesis- का अर्थ होता है नियति दंडात्मक या प्रतिशोधात्मक न्याय और यह यूनान की देवी Nemesis के नाम पर है सज़ा और प्रतिशोध की देवी हैं.

Achilles’ heel बहुत बड़ी कमज़ोरी को कहते हैं जो आपका सर्वनाश कर दे चाहे आपमें बाक़ी सारी मज़बूती क्यों न हो और जो आपके पतन का कारण बने. कहानी में तो शारीरिक कमज़ोरी के लिए इसका प्रयोग हुआ है लेकिन इसे किसी भी बड़ी कमज़ोरी के लिए प्रयोग करते हैं.

कहानियों में आता है कि जब Achilles पैदा हुआ तो उसके बारे में भविष्यवाणी की गई कि वह मैदान-ए-जंग में मारा जाएगा तो उसकी मां थेटिस (Thetis) उसे लेकर स्टिक्स (Styx) नदी पर गई जो अजय होने की शक्ति प्रदान करती थी. थेटिस ने जब शिशु Achilles को नदी में ग़ोता दिलाया तो उसने उसे उसकी एड़ी से पकड़ रखा था और वह जादुई पानी में नहीं गया. वह बड़ा हुआ और काफ़ी बहादुर योद्धा बना लेकिन रण में उसके पांव में एक तीर लगा जो उसकी मौत का कारण बना.

भारतीय मिथक कथाओं में दुर्योधन की कहानी भी ऐसी ही है. आपको याद होगा कि कृष्ण ने किस तरह से उसके जांघ पर वार करने का इशारा किया तब कहीं जाकर भीम उसे हरा पाए.

Zany जोकर को कहते हैं जो हमें नाटक में हंसाने की कोशिश करता है. आम तौर पर वह सरकस वग़ैरह में नज़र आता है. इतालवी हास्य पात्र Zanni, Venetian के नाम पर बना है जो नाटक में हीरो की नकल किया करता था. इसे 1869 में विशेषण के तौर पर इस्तेमाल किया गया.

इसी प्रकार और भी बहुत सारे शब्द हैं जो अंग्रेज़ी में किसी के नाम से बने हैं शायद इसीलिए किसी कवि ने लिखा है.

इससे ज़ेहनों की बुलंदी का पता चलता है
नाम ज़र्रों का तुम अपने महो-अख़्तर रखना

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.