यमन में अल क़ायदा की बड़ी 'साज़िश नाकाम'

  • 7 अगस्त 2013
यमन में सुरक्षा
Image caption दूतावासों के बाहर सुरक्षा बढ़ा दी गई है

यमन का कहना है कि उसने गैस पाइपलाइनों को उड़ाने और देश के मुख्य बंदरगाहों पर क़ब्ज़ा करने की अल क़ायदा की साज़िश को नाकाम कर दिया है

देश में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है और मुख्य इमारतों की सुरक्षा में बख़्तरबंद गाड़ियाँ लगाई गई हैं.

चरमपंथी हमलों की आशंका के मद्देनजर अमरीका और ब्रिटेन ने यमन से अपने राजनयिकों और दूतावास कर्मचारियों को वापस बुला लिया है.

वॉशिंगटन में मौजूद बीबीसी संवाददाता डेविड विलिस के मुताबिक़ ऐसा प्रतीत हो रहा है कि अल क़ायदा की एक बड़ा हमला करने की साज़िश के केंद्र में यमन ही था और अगर यह साज़िश कामयाब हो जाती तो यमन के बुनियादी ढांचे के मुख्य हिस्सों पर अल कायदा का कब्ज़ा हो जाता.

यमन की सरकार के प्रवक्ता राजेह बादी के मुताबिक देश की पाइपलाइनों को उड़ाकर कुछ शहरों पर कब्ज़ा करने की साज़िश रची गई थी.

उनके अनुसार साज़िश के तहत दो बड़े बंदरगाहों पर भी हमले किए जाते. यमन के तेल निर्यात का अधिकतर हिस्सा इनमें से एक बंदरगाह के ज़रिए ही होता है. यहाँ बड़ी संख्या में विदेशी कर्मचारी भी तैनात हैं.

कई देशों के दूतावास बंद

बड़ी साज़िश

Image caption मुख्य इमारतों के बाहर बख़्तरबंद गाड़ियाँ तैनात की गई हैं

बादी ने कहा, "मुकाला और बावज़ीर जैसे मुख्य शहरों पर कब्ज़ा करने और शेबवा शहर में गैस पाइपलाइन पर अल क़ायदा ने समन्वित हमला करने की साज़िश रची थी."

उन्होंने बताया कि साज़िश के तहत अल कायदा के सदस्य सैनिक पोशाक में बंदरगाहों के बाहर तैनात किए जाते और इशारा मिलने पर वे हमला करके कब्ज़ा कर लेते.

समाचार एजेंसी एपी ने यमन के सरकारी अधिकारियों के हवाले से कहा है कि हमलों का उद्देश्य ड्रोन हमलों में मारे गए अल क़ायदा के शीर्ष कमांडर सैद-अल-शिहरी की मौत का बदला लेना था. सैद नवंबर में ड्रोन हमले में घायल हुए थे और बाद में उन्होंने दम तोड़ दिया था.

यमन की राजधानी सना में मौजूद बीबीसी संवाददाता अब्दुल्ला ग़ोराब के मुताबिक शहर में सुरक्षा व्यवस्था अभूतपूर्व रूप से बढ़ा दी गई है और सैंकड़ों की तादाद में बख़्तरबंद गाड़ियाँ सड़कों पर तैनात की गई हैं.

सैनिक और टैंकों ने विदेशी दूतावासों, सरकारी इमारतों और एयरपोर्टों को घेर रखा है और शीर्ष सरकारी अधिकारियों से अपनी आवाजाही को सीमित करने को कहा गया है.

बीते रविवार को उत्तरी अफ्रीका और मध्य पूर्व में अपने 20 दूतावासों को बंद करने वाले अमरीका और ब्रिटेन ने यमन से अपने राजनयिक कर्मचारियों को वापस बुला लिया है और अपने नागरिकों को यमन छोड़ने की हिदायत दी है.

Image caption ब्रिटेन और अमरीका के राजनयिक कर्मचारियों को यमन से वापस बुला लिया गया है

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार अल क़ायदा के शीर्ष कमांडर अयमान अल ज़वाहिरी और एक अन्य कमांडर के बीच बातचीत को पकड़े जाने के बाद ही अमरीका ने अपने दूतावास और वाणिज्यिक दूतावास बंद किए हैं.

साज़िश की बातचीत

'न्यूयॉर्क टाइम्स' के मुताबिक़ अमरीका ने ज़वाहिरी और यमन में अल क़ायदा के मुखिया नासिर-अल-वुहायशी के बीच संवाद को पकड़ा है. अखबार के मुताबिक़ दोनों के बीच बातचीत से 9/11 हमले के बाद से अब तक की 'सबसे बड़ी साज़िश' के बारे में पता चला.

यमन सरकार के प्रवक्ता ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को अल क़ायदा की प्रतिक्रिया का डर है और 'हम उनके डर को समझते हैं.'

लेकिन यमन के विदेश मंत्रालय ने दूतावासों के खाली कराए जाने की आलोचना करते हुए कहा है कि इससे तो चरमपंथियों का ही उद्देश्य पूरा होगा.

Image caption राजधानी सना में सुरक्षा व्यवस्था के अभूतपूर्व इंतजाम किए गए हैं

बीबीसी को सूत्रों के हवाले से पता चला है कि अमरीका अपने विशेष सैन्य दस्ते यमन भेजकर अल क़ायदा के ठिकानों पर हमलों की तैयारी कर रहा है.

हालाँकि अमरीका पहले भी आतंकवाद विरोधी इकाइयों को प्रशिक्षित करने के लिए विशेष सैन्य दस्ते यमन भेज चुका है लेकिन सूत्रों के मुताबिक़ अब ऐसा लग रहा है कि संयुक्त विशेष अभियान कमान (जेएसओसी) हमले करने के लिए दस्ते तैयार कर रहा है.

जेएसओसी अमरीकी खुफिया एजेंसी सीआईए के सहयोग से काम करता है. पिछले दस दिन में सीआईए यमन में चार ड्रोन हमले कर चुकी है.

यमन अरब प्रायद्वीप में अल कायदा (एक्यूएपी) का अड्डा है. अमरकी गृह विभाग और व्हाइट हाऊस ने कहा है कि मौजूदा धमकी एक्यूएपी की ओर से ही आई है. हालाँकि दोनों ने ही इस बारे में अधिक जानकारी नहीं दी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकतें हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार