ओबामा ने पुतिन के साथ बैठक रद्द की, रूस निराश

  • 7 अगस्त 2013
बराक ओबामा
Image caption ओबामा ने कहा कि उन्हें रूस द्वारा स्नोडेन को शरण दिए जाने से निराशा हुई है.

रूस ने अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ बैठक को रद्द करने पर निराशा जताई है.

रूसी राष्ट्रपति के एक सलाहकार ने कहा कि ये कदम दिखाता है कि अमरीका रूस के साथ ''बराबरी के आधार'' पर रिश्ते नहीं बना सका है.

बुधवार को अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अगले महीने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ मॉस्को में होने वाली बैठक रद्द कर दी थी.

व्हाइट हाउस की ओर से जारी एक बयान में कहा गया, "हम इस नतीजे पर पहुँचे हैं कि रूस के साथ वार्ता करने के हमारे द्विपक्षीय एजेंडे में हाल में ज्यादा प्रगति नहीं हुई है. हमें लगता है कि जब तक हमारे साझा एजेंडे से और सकारात्मक नतीजे न निकले तब तक के लिए वार्ता को टाल देना ही ज्यादा सही है."

व्हाइट हाउस ने अपने बयान में एडवर्ड स्नोडेन को अस्थायी शरण दिए जाने के फैसले को निराशाजनक बताने के साथ-साथ दोनों देशों के बीच मिसाइल रक्षा प्रणाली और मानवाधिकार जैसे मुद्दों पर प्रगति न होने का भी हवाला दिया.

हालाँकि सितंबर में पीटर्सबर्ग में होने वाले जी-20 देशों के शिखर सम्मेलन में ओबामा शामिल हो सकते हैं.

फिल्म जगत में भी छाए स्नोडेन

रूसी विदेश मंत्रालय में सलाहकार यूरी उशाकोव ने बुधवार को मीडिया से फो़न कॉन्फ़्रेंस में कहा कि स्नोडन के मामले के लिए रूस ज़िम्मेदार नहीं है.

उन्होंने कहा, "ये कदम साफ़ तौर पर अमरीकी विशेष सेवा के पूर्व एजेंट एडवर्ड स्नोडेन के मामले से जुड़ा है जिसमें हमारा हाथ नहीं है." लेकिन उन्होंने ये कहा कि द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन के लिए न्यौता अब भी है.

इससे पहले मंगलवार को एक टीवी शो में ओबामा ने कहा था कि रूस द्वारा स्नोडेन को शरण दिए जाने से उन्हें निराशा हुई थी. इसके अगली ही सुबह लॉस एंजेलेस की एक यात्रा के दौरान ओबामा ने मॉस्को वार्ता रद्द करने की घोषणा की.

व्हाइट हाउस के एक प्रवक्ता ने कहा कि स्नोडेन को शरण दिए जाने से अमरीका और रूस के बीच जारी तनाव और बढ़ गया है.

तकरार से बढ़कर हैं अमरीका से रिश्तेः पुतिन

शरण

Image caption एडवर्ड स्नोडेन को एक साल के लिए रूस ने शरण दी है

इससे पहले एक अगस्त को अमरीकी ख़ुफ़िया एजेंसी सीआईए के पूर्व कॉन्ट्रैक्टर एडवर्ड स्नोडेन को रूस ने एक साल के लिए शरण दे दी थी. इसके बाद स्नोडेन मॉस्को एयरपोर्ट से बाहर निकले और किसी सुरक्षित स्थान पर चले गए.

उन्होंने शरण देने के लिए रूस का शुक्रिया भी अदा किया था.

अमरीका का आरोप है कि एडवर्ड स्नोडेन ने इलेक्ट्रॉनिक निगरानी कार्यक्रम से जुड़ी जानकारी लीक की. स्नोडेन ये जानकारी लीक करने के बाद 23 जून को हांगकांग से मॉस्को गए थे.

तब से राजनीतिक शरण मिलने तक वे मॉस्को एयरपोर्ट पर ही रुके थे. स्नोडेन के ख़ुफ़िया जानकारी लीक करने के बाद पूरी दुनिया में राजनयिक तनाव बढ़ा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार