अमरीकी सरकार के कामकाज से नाराज़ स्नोडेन

  • 12 जून 2013
एडवर्ड स्नोडेन
Image caption एडवर्ड स्नोडेन ने औपचारिक शिक्षा नहीं ली है

अमरीका में आम लोगों के टेलीफो़न कॉल्स के रिकॉर्ड रखे जाने और इंटरनेट पर होने वाली गतिविधियों की निगरानी की जानकारी देकर सुर्ख़ियों में आए एडवर्ड स्नोडेन चर्चा का केंद्र बन गए हैं.

एक अज्ञात और सुरक्षित जगह पर ब्रितानी अख़बार गार्डियन को दिए इंटरव्यू में उन्होंने यह जानकारी दी थी. उनका इंटरव्यू लेने वाले पत्रकार ने उन्हें विनम्र, स्मार्ट, सरल और शर्मीला नौजवान बताया है. स्नोडेन कंप्यूटर के अच्छे जानकार हैं.

अख़बार के मुताबिक़ पिछले महीने की 20 तारीख़ को हॉन्ग कॉन्ग पहुँचने से पहले स्नोडेन अमरीका के हवाई में अपनी प्रेमिका के साथ रह रहे थे.

स्नोडेन का बचपन

उनका बचपन उत्तरी कैरोलिना के एलिजाबेथ शहर में बीता, वहाँ से वे मैरीलैंड चले गए, जहाँ राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (एनएसए) का मुख्यालय स्थित है.

ख़ुद को एक औसत छात्र मानने वाले स्नोडेन ने मैरीलैंड के कम्युनिटी कॉलेज से कंप्यूटर की पढ़ाई की लेकिन वे अपनी पढ़ाई पूरी नहीं कर पाए.

इसके बाद वे 2003 में अमरीकी सेना में शामिल हो गए लेकिन प्रशिक्षण के दौरान उनके दोनों पैर टूट जाने के बाद उन्हें छुट्टी दे दी गई.

राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी में पहली बार उन्हें सुरक्षा गार्ड का काम मिला. उन्हें मैरीलैंड विश्वविद्यालय में स्थित एजेंसी के एक केंद्र के सुरक्षा की ज़िम्मेदारी सौंपी गई.

इसके बाद वे खुफिया एजेंसी सीआईए चले गए और सूचना प्रौद्योगिकी तंत्र की सुरक्षा पर काम करने लगे.

औपचारिक शिक्षा न होने के बावजूद एडवर्ड स्नोडेन के पास कंप्यूटर की अच्छी जानकारी है, जिसकी बदौलत उन्हें खुफ़िया सेवा में तरक्की मिलती गई.

स्नोडेन को 2007 में जेनेवा में राजनयिक दर्जे वाला सीआईए का एक पद भी दिया गया था.

सरकार का कामकाज

गार्डियन अख़बार को उन्होंने बताया,''जिनेवा में मैंने जो देखा उसने मुझे निराश किया कि मेरी सरकार कैसे काम कर रही है और इसका दुनिया पर क्या असर हो रहा है. वहाँ मुझे लगा कि मैं कुछ ऐसी चीजों का हिस्सा था, जो फ़ायदे से अधिक नुक़सान पहुँचाने के लिए की जा रही थीं.''

Image caption स्नोडेन 2003 में अमरीकी सेना में शामिल हुए थे

स्नोडेन ने अख़बार को बताया था कि उन्होंने शुरुआत में ही जनता के बीच जाने का फ़ैसला कर लिया था लेकिन उन्होंने यह देखने के लिए इंतजार किया कि राष्ट्रपति बराक ओबामा 2008 के चुनाव के बाद नीतियों में बदलाव करते हैं या नहीं.

उन्होंने कहा कि ओबामा ने अपने पूर्ववर्ती की नीतियों को ही जारी रखा.

इससे तंग आकर स्नोडेन ने 2009 में सीआईए की नौकरी छोड़ दी. इसके बाद वे राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (एनएसए) में ठेके पर काम करने वाली कंपनियों में काम करने लगे. इनमें सलाहकार फर्म बूज़ एलन भी शामिल है.

ब्रूज एलन ने एक बयान में कहा है कि स्नोडेन ने उनके यहाँ तीन महीने से भी कम समय तक काम किया. इस दौरान उन्हें हवाई में एक टीम के साथ काम पर लगाया गया था.

खबरों के मुताबिक़ स्नोडेन को वहाँ दो लाख डॉलर की तनख्वाह मिलती थी.

परिचितों की चिंता

स्नोडेन और उनकी प्रेमिका इस साल एक मई को हवाई स्थित अपना घर छोड़कर चले गए. ज़मीन-जायजाद का काम करने वाले एजेंटों का कहना है कि वे घर पर कुछ छोड़कर नहीं गए थे.

Image caption एडवर्ड स्नोडेन हॉन्ग कॉन्ग के जिस होटल में ठहरे थे वहाँ से वे कहीं चले गए हैं

उनके एक पड़ोसी ने 'एबीसी' को बताया कि यह दंपती आमतौर पर अपने घर को बंद रखता था और किसी से बातचीत नहीं करता था.

हॉन्ग कॉन्ग में उन्होंन गार्डियन से कहा था कि उन्हें उन लोगों के लिए डर लग रहा है जो उन्हें जानते हैं.

उन्होंने गार्डियन अख़बार से कहा, ''मुझे इसके साथ ही अपना बाक़ी का जीवन गुज़ारना होगा. मैं उनके साथ संपर्क करने नहीं जा रहा हूं. अधिकारी उन लोगों के साथ कड़ाई से पेश आएंगे जो मुझे जानते हैं. इस वजह से मैं रात को सो नहीं पाता हूं.''

वे स्वीकार करते हैं कि उनका जीवन जेल में ही ख़त्म हो सकता है. वह कहते हैं, ''अगर वे आपको पकड़ना चाहते हैं, तो कभी भी पकड़ सकते हैं.''

उन्होंन कहा,''मुझे यह नहीं पता है कि मेरा भविष्य कैसा होगा. मुझे अपना घर फिर से देख पाने की उम्मीद भी नहीं है.''

संबंधित समाचार