अर्जेंटीना: पूर्व सैन्य शासक की जेल में मौत

  • 18 मई 2013
रफाएल विडेला को आजीवन कारावास की सजा हुई थी

अर्जेंटीना के पूर्व सैन्य शासक जॉर्ज रफ़ाएल विडेला का 87 वर्ष की अवस्था में जेल में निधन हो गया है. वे मानवता के खिलाफ़ युद्ध अपराध के आरोप में आजीवन कारावास की सज़ा काट रहे थे.

बताया जा रहा है कि जेल में उनकी स्वाभाविक मृत्यु हुई है.

जॉर्ज रफ़ाएल साल 2010 में जेल भेजे गए थे. उन्हें 1976-83 के बीच में सैन्य तानाशाही के वक्त 31 लोगों की मौत का ज़िम्मेदार ठहराया गया था.

“डर्टी वॉर” नाम से शुरू हुए एक अभियान के तहत इस दौरान करीब तीस हज़ार लोगों को बुरी तरह प्रताड़ित किया गया और तमाम लोगों की हत्या की गई.

जनरल विडेला को प्रताड़ित करने, हत्या करने और कुछ अन्य अपराधों के लिए साल 1985 में सजा सुनाई गई थी, लेकिन 1990 में उन्हें तत्कालीन राष्ट्रपति कार्लोस मेनेम ने माफी दे दी थी.

अप्रैल 2010 में उच्चतम न्यायालय ने उनकी सजा माफी को अवैध बताने वाले फैसले को अपनी सहमति दे दी.

आठ महीने बाद ही वो 31 लोगों को प्रताड़ित करने और उनकी हत्या करने के जुर्म में दोषी ठहराए गए और उन्हें आजीवन कारावास की सजा हुई.

जनरल विडेला के समय में जब सेना ने सत्ता सँभाली, उसके ठीक बाद तमाम वामपंथी कार्यकर्ताओं को कोर्डोबा शहर की जेल से बाहर निकाला गया था और उनकी हत्या कर दी गई थी.

बच्चों की चोरी

हालांकि सेना का कहना है कि इन लोगों की हत्या इसलिए की गई थी क्योंकि ये लोग भागने की कोशिश कर रहे थे.

इन लोगों की हत्या के लिए जिन तीस लोगों को दोषी ठहराया गया था, जनरल विडेला भी उनमें से एक थे.

पिछले साल ही उन्हें राजनीतिक कैदियों के बच्चों की चोरी करवाने के मामले में भी दोषी ठहराया गया था.

माना जाता है कि इस तरह के करीब चार सौ बच्चों की संगठित तौर पर चोरी की गई थी.

हालांकि पुलिस और सेना के लोगों के घरों में पलने वाले ऐसे करीब चार सौ बच्चों को उनके माता-पिता को सौंपा जा चुका है.

साल 1976 में विडेला और एक अन्य सैनिक नेता को राष्ट्रपति इसाबेल पेरोन का तख्ता पलटने का षडयंत्र किया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार