पिस्टोरियस मामला: आखिर क्या हुआ था कत्ल की रात?

  • 22 फरवरी 2013
पिस्टोरियस का घर
1.पिस्टोरियस के घर की बालकोनी का हिस्सा है. 2.उनके घर का बाथरूम 3.यहीं पर चार गोलियां चलीं 4.उनके घर का बेडरूम 5.उनके शौचालय का दरवाज़ा 6.पिस्टोरियस के अनुसार उन्होंने यहीं से इमरजेंसी कॉल किया

अपनी गर्लफ्रेंड रीवा स्टीनकैंप के कत्ल के मुकदमे का सामना कर रहे पैरालिंपिक चैम्पियन ऑस्कर पिस्टोरियस की जमानत याचिका की सुनवाई के दौरान कई विरोधाभासी बातें उभर कर सामने आई हैं.

हालांकि जिरह के वक़्त पिस्टोरियस की पैरवी कर रहे वकीलों और सरकारी पक्ष दोनो ने इस बात पर सहमति जताई है कि रीवा की मौत 14 फरवरी को स्थानीय समय के अनुसार सुबह चार बजे से पांच बजे की बीच हुई थी.

लेकिन कई और भी मुद्दे हैं जिन पर मामला उलझ रहा है. जैसे कि अभियोजन पक्ष का दावा है कि रीवा स्टीनकैंप की मौत सोच समझकर किए गए कत्ल का नतीजा था.

जबकि बचाव पक्ष की दलील है कि इस दावे को साबित करने के लिए कोई सबूत नहीं है और उनका कहना है कि पिस्टोरियस पर हत्या के इतर कम गंभीर आरोप लगाए जाने चाहिए.

उन मुद्दों पर गौर करते हैं जिन पर बचाव और अभियोजन के बीच मतभेद उभरकर सामने आए हैं.

कत्ल या पहचान की गलती?

मामले की शुरुआत से ही इस मुद्दे पर बहस हो रही है कि क्या पिस्टोरियस ने अपनी गर्लफ्रेंड को अनजाने में दुर्घटनावश गोली मारी थी?

रीवा की मौत के ठीक बाद पुलिस महकमे की प्रवक्ता डेनिस ब्यूके ने इन सुझावों से इनकार किया था कि स्टीनकैंप को घुसपैठिया समझकर गोली मारी गई थी.

पिस्टोरियस गर्लफ्रेंड के कत्ल के मुकदमे का सामना कर रहे हैं.

पुलिस का कहना है कि पिस्टोरियस ने एक तकरार के बाद सोच समझ कर रीवा को उस वक्त गोली मारी थी जब वह बाथरूम में थी.

हालांकि पिस्टोरियस इन आरोपों से इनकार करते हैं और कहते हैं कि उनके पास रीवा के कत्ल की वजह नहीं थी. वे दोनो एक दूसरे के गहरे प्रेम में थे और उनके बीच कोई झगड़ा नहीं हुआ था.

बाथरूम में रीवा?

इस बात पर कयास लगाए जा रहे हैं कि रीवा उस समय बाथरूम में क्या कर रही थीं. वे वहां छुपने के लिए गई थीं या फिर शौचालय के इस्तेमाल के लिए.

मामले की जांच कर रहे डिटेक्टिव हिल्टन बोटा ने दावा किया था कि रीवा के जख्म पिस्टोरियस के बयान से इतर इशारा करते हैं.

रीवा के जख्मों से पता चलता है कि गोली लगते समय वह शौचालय की सीट पर नहीं थी बल्कि खुद को बाथरूम के एक कोने में छुपाने की कोशिश कर रही थी.

इस पर बचाव पक्ष का जवाब है कि मौत के वक़्त रीवा का पेट खाली था और शव की जांच से यह पता चला है कि उसके शरीर पर किसी तरह के हमले या बचाव में हो सकने वाले घाव का निशान नहीं है.

रात सोई थी या जागी

लेकिन वहां अंधेरा था. पिस्टोरियस ने अपने बयान में कहा है कि अंधेरे की वजह से वह यह नहीं समझ पाए कि रीवा बिस्तर पर मौजूद है या नहीं.

डिटेक्टिव बोटा का कहना है कि बिस्तर पर रीवा की गैरमौजूदगी को महसूस किए बिना पिस्टल लेकर अंधेरे में बॉलकनी से होकर बाथरूम तक पहुंचने की बात पर यकीन करना मुश्किल है.

बोथा का कहना है कि पिस्टल बिस्तर के उसी सिरहाने रखा होता था जिस तरफ रीवा सोई हुई थीं.

अभियोजन पक्ष के एक गवाह ने कहा है कि उस वक़्त पिस्टोरियस के घर में बत्ती जली हुई थी और उसने किसी लड़की के रोने की आवाज सुनी थी.

हालांकि डिटेक्टिव बोथा ने शुरुआत में कहा था कि उसका गवाह 600 मीटर की दूरी पर स्थित था जबकि बाद में इस दूरी में संशोधन करके इसे 300 मीटर कहा गया.

संबंधित समाचार