इंडियन मुजाहिद्दीन ने दिलसुखनगर का मुआयना किया था: पुलिस

  • 23 फरवरी 2013

हैदराबाद बम धमाकों के सिलसिले में पुलिस ने कहा है कि उसने अभी तक किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया है.

हैदराबाद पुलिस कमिश्नर अनुराग शर्मा ने पुष्टि की है कि धमाकों में एमोनियम नाइट्रेट इस्तेमाल किया गया है.

दूसरी बार धमाकों का शिकार,शक के घेरे में

पत्रकार वार्ता में अनुराग शर्मा ने ये बात स्वीकार की नवंबर में खुफिया अधिकारी इंडियन मुजाहिद्दीन के लोगों से पूछताछ करने दिल्ली गए थे.

उन्होंने बताया, "पूछताछ से पता चला कि इंडियन मुजाहिद्दीन के लोगों ने बताया था कि इन्होंने चार इलाकों का मुआइना किया था जिसमें दिलसुखनगर शामिल था. इनमें से ज़्यादातर लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया था."

पुलिस कमिश्नर ने कहा कि 15 फरवरी को ये एलर्ट मिला था कि दिल्ली, हैदराबाद, मुंबई और बैंगलोर में हमला हो सकता है और इस संदर्भ में एहतियान कदम उठाए गए थे.

सीसीटीवी कैमरे पर सवाल

उनका कहना था कि कुछ सुराग मिले हैं लेकिन जब तक हमलों से जुड़ी कोई पुष्ट जानकारी नहीं मिलती तब तक वे कोई भी जानकारी साझा नहीं कर सकते.

विस्फोट के बाद डर में जकड़े मुसलमान युवा

धमाकों के स्थल पर सीसीटीवी कैमरों के लेकर भी पुलिस कमिश्नर ने स्पष्टिकरण दिया. उन्होने कहा कि वहाँ के कैमरों के तार काटे नहीं गए थे.

हैदराबाद में गुरुवार शाम को दो धमाके हुए थे जिसमें कम से कम 16 लोग मारे गए हैं और सौ से अधिक घायल हैं.

केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे संसद में कह चुके हैं कि फिलहाल ये कहना जल्दबाजी होगी कि किन व्यक्तियों या संगठन ने इन धमाकों को अंजाम दिया है.

वासे मिर्ज़ा का नाम लेकर सवाल पूछे जाने पर पुलिस कमिश्नर ने कहा है कि फिलहाल वो संदिग्ध नहीं है.

संबंधित समाचार