ठेकेदार को थप्पड़ मारने वाले 'पार्षद' गिरफ्तार

  • 3 दिसंबर 2012
एमएनएस
Image caption एमएनएस ने स्थानीय निकाय चुनावों में अच्छा प्रदर्शन किया था

मुंबई में रविवार को 65 साल के एक ठेकेदार को थप्पड़ मारने के मामले में आरोपी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के पार्षद नितिन निकम को गिरफ्तार कर लिया गया है.

निकम पर आरोप हैं कि उन्होंने रविवार सुबह मुंबई के कल्याण डोंबिवली इलाके के गणेशवाड़ी में 65 के निजी ठेकेदार डी वी पाटिल को सरेआम थप्पड़ मारा था.

निकम एक टूटी हुई पानी की पाइपलाइन की मरम्मत में हुई देरी की जांच करने आए आए थे और पूछताछ के लिए पाटिल को बुलाया था.

पूछताछ के दौरान महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के पार्षद निकम को इतना गुस्सा आ गया कि उन्होंने पाइप की मरम्मत करने आए 65 साल के कांट्रेक्टर डी वी पाटिल को एक के बाद एक नौ थप्पड़ जड़ दिए.

जिस वक्त ये घटना घटी थी उस वक्त वहां पर कई स्थानीय लोगों के अलावा टीवी चैनल के पत्रकार भी मौजूद थे. इन पत्रकारों ने इस घटना को अपने कैमरे में कैद कर लिया और लगातार टीवी पर दिखाते रहे.

डीवी पाटिल पड़ोसी ज़िले ठाणे में कल्याण-डोंबिवली नगर निगम में निजी ठेकेदार के तौर पर काम करते हैं.

सबसे पहले स्थानीय मराठी समाचार चैनल एबीपी माझा ने निकम द्वारा पाटिल को मारने की तस्वीरें हर जगह दिखानी शुरु की जिसके बाद मामले ने तूल पकड़ लिया.

एक के बाद एक नौ थप्पड़

टेलीविज़न फुटेज में दिखाई गई तस्वीरों में निकम को पाटिल के दोनों गालों पर बारी-बारी से थप्पड़ मारते हुए दिखाया गया है.

डीवी पाटिल ने बाद में मीडिया को बताया कि उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों को इस समस्या के बारे पहले ही जानकारी दे दी थी.

पाटिल ने ये भी कहा कि निकम उनके बेटे की उम्र के हैं और जब वे उन्हें मार रहे थे तब भी वे वहां से भागे नहीं बल्कि उन्हें वहां की समस्या से अवगत करा रहे थे.

पार्षद नितिन निकम ने बाद में भी अपने इस अनुचित व्यवहार को भी सही ठहराने की कोशिश करते रहे. उन्होंने कहा, ''ये लोग ऐसी ही भाषा समझते हैं. इन्हें बातों की भाषा समझ में नहीं आती है.''

एमएनएस ने चुनावों के दौरान कहा था कि महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के चुने हुए प्रतिनिधी सरकारी काम-काज में किसी तरह की लापरवाही को बर्दाश्त नहीं करेंगे.

लेकिन एमएनएस और शिवसेना के नेताओं द्वारा हिंसा में शामिल होने की ये कोई पहली वारदात नहीं है.

करीब साल भर पहले ठाणे से विधायक एकनाथ शिंदे ने भी अपने कुछ समर्थकों के साथ एक फ्लाईओवर का निर्माण कर रहे मज़दूरों के साथ हाथापाई की थी.

निकम चाहते तो बुलाए गए ठेकेदार डीवी पाटिल से इस मसले पर बातचीत करते और संबंधित अधिकारियों से इसकी शिकायत कर जल्द कार्रवाई की मांग कर सकते थे.

लेकिन उन्होंने इसके बजाय खुद कानून हाथ लेना ज़रुरी समझा.

संबंधित समाचार